छत्तीसगढ़: साफ पानी का वादा करके भूली सरकार, सीएम हाउस पहुंचे ग्रामीण

छत्तीसगढ़: साफ पानी का वादा करके भूली सरकार, सीएम हाउस पहुंचे ग्रामीण

छत्तीसगढ़ के गरियाबंद के सुपेबेड़ा गांव के ग्रामीणों ने पानी की समस्या को लेकर सीएम हाउस में अधिकारियों से अपनी बात कही । उनका कहना था कि सरकार ने उनके गांव को साफ पानी देने का वादा किया था लेकिन ऐसा नहीं हुआ है। ग्रामीण गंदा पानी पीने को मजबूर हैं।

ग्रामीणों ने बताया कि अक्टूबर 2019 में राज्यपाल अनुसूईया उइके और स्वास्थ्य मंत्री टीएस सिंहदेव उनके गांव में आए थे। उन्होंने गांव वालों को साफ पानी का वादा किया था। ग्रामीणों ने बताया कि इस पानी को पीकर किडनी की समस्याएं होने लगी हैं। लोग बीमार हो रहे हैं और लोगों की मौतें हो रही हैं।

गांव वालों दावा किया कि पिछले कुछ सालों में इस पानी की वजह से किडनी की बीमारी से 90 लोगों की मौत हुई है। कलेक्टर के पास जाते हैं तो कोई समाधान नहीं मिल रहा है। उनका कहना है कि निविदा भी जारी हुई, काम शुरू भी हुआ था, लेकिन पिछले पांच महीनों से काम बंद है।

ग्रामीणों ने सीएस हाउस में बैठे अफसरों से कहा कि हमारे गांव के पानी को पीके दिखाइए, आप एक घूंट पानी पीके देखिए क्योंकि आप जानते हैं यो पानी नहीं जहर है। ग्रामीणों ने कहा कि पानी पीने को मजबूर किया जा रहा है। अगर ऐसा ही रहा तो बड़ा आंदोलन होगा।